Posts

Showing posts from May, 2017

कल्पना

फिर कहानी अधूरी रह गयी  बात बनते बनते रह गयी 
फिर वास्तविकता समझे थे जिससे
वोह कल्पना बन कर रह गयी

फिर गरजते  कागज़ों की उम्मीद  बरसते बरसते रह गयी 
फिर मुख्य नायिका वोह  किसी और किताब में बनकर रह गयी 
फिर मलाल कैसा, दुःख किस बात का  फुव्वारे में स्याही अनन्त बाकी रह गयी